सीबीआई जांच के डर से अरविन्द केजरीवाल नई आबकारी नीति को वापस लेने को मजबूर है:कांग्रेस

सिसोदिया का जेल जाना तय:चौ. अनिल कुमार

नई दिल्ली: – दिल्ली की केजरीवाल सरकार द्वारा पुरानी शराब नीति को वापस लागू करने के ऐलान के बाद से सरकार विपक्ष के निशाने पर है। शनिवार को दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि अपने आप को भगत सिंह की औलाद कहने वाले मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने राजधानी को नशे की आग में झोकने के बाद जांच के डर से जनविरोधी नई आबकारी नीति को वापस लेने के लिए मजबूर इसलिए होना पड़ा कि क्योंकि दिल्ली कांग्रेस पहले दिन से ही केजरीवाल सरकार द्वारा जबरन थोपी गई शराब नीति के खिलाफ लड़ाई लड़ रही है जिसके परिणाम स्वरुप दिल्ली के उपराज्यपाल ने शराब नीति में हुए हजारों करोड़ भ्रष्टाचार की सीबीआई द्वारा जांच की सिफारिश की गई। प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि केजरीवाल युवाओं को रोजगार देने की जगह शराब की ओर अग्रसर करके शहीद भगत सिंह के नाम पर गलत राजनीति कर रहे है। उन्होंने कहा कि उपराज्यपाल द्वारा नई आबकारी नीति को लागू करने में हुए भ्रष्टाचार की जांच की सिफारिश का प्रदेश कांग्रेस स्वागत करती है। प्रदेश अध्यक्ष ने मांग की कि सरकार द्वारा 6 महीने में नई शराब नीति दोबारा बनाने से पहले अरविन्द केजरीवाल उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया से इस्तीफा ले। यदि फिर मनीष सिसोदिया ही शराब नीति को दिल्ली के लिए बनाने में घोटाला नही होगा इसकी क्या गारंटी है? उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री की उपराज्यपाल के साथ मीटिंग में शराब नीति को वापस लेने की चर्चा इसलिए हुइ क्यांकि केजरीवाल जेल बचाने की कोशिश कर रहे है, परंतु हजारों करोड़ के भ्रष्टाचार की जांच के बाद मनीष सिसोदिया का जेल जाना तय है।

प्रदेश कार्यालय में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में प्रदेश अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार के साथ पूर्व मंत्री डा0 नरेन्द्र नाथ, पूर्व विधायक विजय लोचव और कम्युनिकेशन विभाग के वाईस चेयरमैन अनुज आत्रेय भी मौजूद थे।

कांग्रेस ने चलाया था जन जागरण अभियान:

चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि दिल्ली कांग्रेस ने नई शराब नीति का विरोध भ्रष्टाचार को उजागर करने के लिए जन जागरण पोल-खोल अभियान 70 विधानसभाओं और 272 वार्डों में चलाया गया। इसके साथ हर स्तर पर उपराज्यपाल, मुख्यमंत्री, केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री और पुलिस आयुक्त को पत्र लिखकर शराब नीति में हुए भ्रष्टाचार से आगाह किया परंतु मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने हमेशा इसे नजरअंदाज किया और शराब माफिया दीप मल्होत्रा की शैल कम्पनियों को नियमां को ताक पर राजधानी भर में शराब के ठेके आवंटित कर दिए गए। उन्होंने कहा कि शराब बनाने वाले, शराब सप्लाई करने वाले और शराब को ठेकों के द्वारा लोगों तक पहुॅचाने वाले दीप मल्होत्रा को ही दिल्ली में शराब का कारोबार सौंपकर दिल्ली सरकार हजारों करोड़ का भ्रष्टाचार किया गया। उन्होंने कहा कि जिस पार्टी के लगभग 80 प्रतिशत मंत्री जेल जा चुके हो, आधे से अधिक विधायकों पर भ्रष्टाचार, रेप और आपराधिक मुकद्में दर्ज हो चुके है इसलिए कट्टर बेईमान पार्टी है।

गिर गया शिक्षा का स्तर:

चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि अरविन्द केजरीवाल की बेहतर शिक्षा व्यवस्था पर लगातार घोषणाओं के बाद आखिर साबित हो गया कि दिल्ली के सरकारी स्कूलों में शिक्षा का स्तर दिन पर दिन गिरता जा रहा है क्योंकि सरकारी स्कूलों के छात्रों का 10वीं का परिणाम जहां हमेशा टाप-10 के अंदर रहता था, इस वर्ष दिल्ली टाप-10 से बाहर होकर परिणाम में अंतिम पायदान दिखी। उन्होंने कहा कि अरविन्द केजरीवाल का दूसरे राज्यों में बेहतर शिक्षा व्यवस्था का बखान करना बेमानी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *