Coronavirus : चीन में कोरोना ने मचाया कोहराम,भारत की बढ़ी चिंता

:- वैरिएंट (BF.7 variant of Omicron) के चार मामले भारत में भी पाए गए हैं।

:- 16 लक्षण दिखें तो हो जाएं अलर्ट

कोविड-19 के बढ़ते हुए मामलों ने एक बार फिर दुनिया की चिंता बढ़ा दी है. कोरोना से लोगों को थोड़ी राहत मिली ही थी कि फिर से चीन, जापान, अर्जेंटीना, दक्षिण कोरिया, अमेरिका और ब्राजील जैसे देशों में केस बढ़ने शुरू हो गए हैं। मरीजों के बढ़ते हुए आंकड़ों को देखते हुए भारत के स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी मीटिंग बुलाई जिसमें कई अहम फैसले लिए गए। चीन में कोविड-19 मामलों में उछाल के लिए जिम्मेदार ओमिक्रॉन के बीएफ। 7 वैरिएंट (BF.7 variant of Omicron) के चार मामले भारत में भी पाए गए हैं। गुजरात में जो 61 वर्षीय एनआरआई महिला कोविड पॉजिटिव पाई गई है उसे वैक्सीन की तीन डोज लगी हुई थीं।

16 लक्षण दिखें तो हो जाएं अलर्ट

2019 से COVID19 कोरोनावायरस लगातार म्यूटेट हो रहा है और म्यूटेशन के साथ ही इसके लक्षण भी लगातार बदल रहे हैं। म्यूटेशन के बाद कुछ वैरीअंट बहुत ही घातक रूप धारण कर रहे हैं। कई ऐसे मामले भी सामने आए हैं जिनमें वैक्सीनेशन करा चुके लोग भी कोविड पॉजिटिव हो रहे हैं।

– गले में खराश
– छींक
– बहती नाक
– बंद नाक
– बिना कफ वाली खांसी
– सिरदर्द
– कफ के साथ खांसी
– बोलने में परेशानी
– मांसपेशियों में दर्द 
– गंध ना आना
– अधिक बुखार
– कंपकंपी के साथ बुखार
– लगातार खांसी
– सांसों लेने में समस्या
– थकान महसूस होना
– भूख में कमी
– डायरिया
– बीमार होना

भारत मे किया ही कोरोना की स्थिति है। भारत के लिए कितनी चिंता की बात ?


चीन के मुकाबले भारत में कोविड की स्थिति खासी बेहतर है। भारत में कोविड-19 वैक्सीन और कोरोनावायरस प्रोटोकॉल को बेहतर तरीके से भारत ने अबतक कोरोना वायरस की तीन लहरें झेली हैं। डेल्‍टा वैरिएंट के चलते आई दूसरी लहर सबसे ज्‍यादा घातक साबित हुई। पिछले कुछ महीनों से देश में कोविड की स्थिति नियंत्रण में है। 20 दिसंबर 2022 को सक्रिय कोविड मामलों की संख्‍या 3,559 बताई गई।

चीन से सीधे तौर पर संक्रमितों के भारत आने के चांसेज भी न के बराबर हैं। क्योंकि भारत ने कोविड की शुरुआत से ही चीन आने-जाने वाली उड़ानें रोक रखी हैं।

जैसा कि हमने पहले भी कोरोना की तीनों लहरों में देखा है कि भारत में ज्‍यादातर लोगों में हाइब्रिड इम्‍युनिटी है, भले ही हमारा बूस्‍टर डोज काउंट कम है।

किन बातों का रखें ख्याल

पूरी दुनिया में बढ़ते कोरोनावायरस के मामलों के बीच में नए वैरिएंट फैलने की आशंका से मना नहीं किया जा सकता । मगर अगर भारत के परिपेक्ष की बात करें तो यहां के वातावरण खाने-पीने और रहन-सहन के तरीके से जानकारों का मानना है कि इसका असर ज्यादा नहीं होना चाहिए क्योंकि इम्यूनिटी लेवल भी हमारे यहां ज्यादा है।

हालांकि सावधानी बरतना अनिवार्य है। जिन्होंने अब तक बूस्टर डोज नहीं लिया, वह डोज जरूर लें। जिन लोगों को अन्य बीमारियां हैं, जैसे डायबिटीज, बीपी और कॉलेस्ट्रॉल, वह खास खयाल रखें। बच्चे, बुजुर्ग और प्रेग्नेंट महिलाएं भी ध्यान रखें। आजकल बदलते मौसम से लोगों में सर्दी और खांसी जुकाम का लक्षण है। तीन दिन से ज्यादा बुखार है, तो कोविड टेस्ट करवा सकते है। बचाव के लिए कोरोनावायरस प्रोटोकॉल का भी पालन करें